Hindi Poem On Life Values: हिंदी पोएम ऑन लाइफ वैल्यूज

Hindi Poem on Life Values : हिंदी पोएम ऑन लाइफ वैल्यूज – आज इस पोस्ट में कवि ने अकेलापन अनुभव करने के एहसास को हमसे साझा किया है। यह Hindi Poem हमें दुनिया की असलियत और अपनों की अहमियत महसूस करवाती हैं। कवि ने इस Hindi Poem में कुछ चुनिंदा उर्दू के शब्दों का इस्तेमाल किया है जिसका हिंदी अनुवाद आपको पेज के अंत में मिलेगा।

 

Hindi Poem On Relationship

Hindi Poem On Life Values

Apna Koi Raahon Me Saath Chhodta Nahi Hai,
Bichade Jo Ek Baar Fir Kabhi Milta Nahi Hai.

 

Sikhaya Nahi Tumhe Jo Mili Seekh, Dhokhon Se Hume,
Shukr Hai Zindagi Paathshala Hai, Akhbaar Nahi Hai.

 

Rehne ko Reh Lete Teri Nazron Me Hum,
Magar Un Nazron Me Ab Mera Ikhtiyaar Nahi Hai.

 

Yun Toh Mujhe Tera Intzaar Aaj Bhi Hai

,
Magar Tere Dil Par Ab Aitbaar Nahi Hai.

 

Mili Shohrat, Izzat Aur Mohhabbat Magar,
Jise Apna Keh Sakein Woh Ghar Baar Nahi Hai.

 

Jo Roye Mere Saath Woh Humsafar Toh Hai,
Jo Hasta Tha Mere Aansuon Par Wah Gunehgaar Nahi Hai.

 

Shikwa Tha Tujhe Seep Tere Naam Na Tha,
Azaab Me Tune Saare Moti Baha Diye.

 

Maana Mere Aas Pas Mere Azeez Nahi Hain,
Magar Aadil Mile Kayi, Hume Aazaab Nahi Hai.

 

Tujhe Chhu Kar Guzar Jati Hain Meri Duayein Kuch Is Kadar,
Afsos Hai Mujhe, Tujhe Iktija Nahi Hai.  

 

Tune Pehchana Nahi Mujhe Mai Tera Fikramand Tha,
Meri Ijtiraar Thi Jo Tu Mere Saath Nahi Hai.

 

Kuch Khas Rishte Aur Ghar Chhod Aaya Tha Mai,
Gali Jo Badli, Ab Koi Anjaan Nahi Hai.

 

Gharon Ke Malik The, Malik Ke Adhikar The,


Rishte Toh The Par Unme Koi Apna Nahi Hai.

 

Mere Jaane Se Yeh Samay Ruka Nahi Hai,
Dekh Koi Patthar Dil Dukha Nahi Hai.

 

Mai Jaanta Tha Tujhe, Mujhe Koi Aascharya Nahi Hai,
Tujhse Pyar Hai Warna Mera Zakhm Itna Bhi Gehra Nahi Hai.

 

Dekh Badal Gayi Hai Duniya Chaaron Oor,
Magar Tera Dil Aaj Bhi Pighla Nahi Hai.

 

Tere Ghar Ke Roshandaan Se Aati Hongi Aawazein Aaj Bhi,
Magar Ab Wahan Chahchahane Wali Woh Chidiya Nahi Hai.

 

Jo Parda Na Sarakta Tha Un Khidkiyon Se Kabhi
Ab Wahan Koi Parda Karta Hi Nahi Hai.

 

Mai Bhi Rota Hun Logon Ke Dukhon Ko Dekh Kar,
Ab Meri Aankhon Me Mere Dukhon Ka Dariya Nahi Hai.

 

Tu Mere Dil Me Tha Hmesha, Aaj Bhi Hai
Beshak Tere Dimag Me Hun, Dil Me Tere, Meri Jagah Nahi Hai.

 

Mai Pyar Paane Aur Baantne Aaya Hun Is Duniya Me,
Musafir Hun, Mujhe Hamesha Yahan Rehna Nahi Hai.

 

Mujhse Sab Le Le Par Pyar Zarur Dena,
Ghate Ka Sauda Mujhe Karna Nahi Hai.

 

Chehron Me Khubsurati Dhundhna Meri FItrat Nahi,
Seerat Se Samjhauta Mujhe Jamta Nahi Hai.

 

Laakhon Milenge Tujhe Mujhse Behtar Yahan,
Duniya Me Kewal Koi Mujhsa Nahi hai.

 

Read This Also :- Best Shayari Aakhon Par : आंखों पर शायरी

 

Hindi Poem on Life Values

 

अपना कोई राहों में साथ छोड़ता नहीं है,
बिछड़े जो एक बार फिर कभी मिलता नहीं है।

 

सिखाया नहीं तुम्हें जो मिली सीख, धोखों से हमें
शुक्र है जिंदगी पाठशाला है, अख़बार नहीं है।

 

रहने को रह लेते तेरी नजरों में हम,
मगर उन नजरों में अब मेरा इख्त़ियार नहीं है।

 

यूं तो मुझे तेरा इंतजार आज भी है,
मगर तेरे दिल पर अब ऐतबार नहीं है।

 

मिली शोहरत इज़्ज़त और मोहब्बत मगर,
जिसे अपना कह सकें वो घर बार नहीं है।

 

जो रोए मेरे साथ वह हमसफ़र तो है,
जो हंसता था मेरे आंसुओं पर वह गुनहगार नहीं है।

 

शिकवा था तुझे सीप तेरे नाम न था,
अज़ाब में तूने सारे मोती बहा दिए।

 

माना मेरे आस-पास मेरे अज़ीज़ नहीं हैं,
मगर आदिल मिले कई, हमें अज़ाब नहीं है।

 

तुझे छूकर गुजर जाती हैं मेरी दुआएं कुछ इस कदर,
अफसोस है मुझे, तुझे इक़्तिज़ा नहीं है।

 

तूने पहचाना नहीं मुझे मैं तेरा फिक्रमंद था,
मेरी इज़्तिरार थी जो तुम मेरे साथ नहीं है।

 

कुछ खास रिश्ते और घर छोड़ आया था मैं,
गली जो बदली, अब कोई अनजान नहीं है।

 

घरों के मालिक थे, मालिक के अधिकार थे
रिश्ते तो थे पर उनमें कोई अपना नहीं है।

 

मेरे जाने से यह समय रुका नहीं है,
देख कोई पत्थर दिल दुखा नहीं है।

 

मैं जानता था तुझे मुझे कोई आश्चर्य नहीं है,
तुझसे प्यार है वर्ना मेरा जख्म इतना भी गहरा नहीं है।

 

देख बदल गई है दुनिया चारों ओर,
मगर तेरा दिल आज भी पिघला नहीं है।

 

तेरे घर के रोशनदान से आती होंगी आवाज में आज भी,
मगर अब वहां से चहचहाने वाली वह चिड़िया नहीं है।

 

जो पर्दा न सरकता था उन खिड़कियों से कभी,
अब वहां कोई पर्दा करता ही नहीं है।

 

मैं भी रोता हूं लोगों के दुखों को देख कर,
अब मेरी आंखों में मेरे दुखों का दरिया नहीं है।

 

तू मेरे दिल में था हमेशा, आज भी है
बेशक तेरे दिमाग में हूं, दिल में तेरे मेरी जगह नहीं है।

 

मैं प्यार पाने और बांटने आया हूं इस दुनिया में,
मुसाफिर हूं, मुझे हमेशा यहां रहना नहीं है।

 

मुझसे सब ले ले पर प्यार जरूर देना,
घाटे का सौदा मुझे करना नहीं है।

 

चेहरों में खूबसूरती ढूंढना मेरी फितरत नहीं,
सीरत से समझौता मुझे जमता नहीं है।

 

लाखों मिलेंगे तुझे मुझसे बेहतर यहां,
दुनिया में केवल कोई मुझ सा नहीं है।

 

आदिल = न्यायपूर्ण, सच्चा, नेक, निष्कपट, अच्छा, भला, सत्चरित्र, सज्जन,
इक़्तिज़ा = आवश्यकता, माँग, चाह
अज़ाब = पीड़ा, सन्ताप,
इख्त़ियार = शक्ति, अधिकार, विकल्प, मरज़ी
अज़ाब = पीड़ा, सन्ताप, दंड
इज़्तिरार = विवशता, अकुलाहट